३१ अगस्त २०२२, बुधवार – गणेश चतुर्थी, ३१ अगस्त २०२२, बुधवार - श्री का आगमन (प्रातः ८:३० बजे), ३१ अगस्त २०२२, बुधवार - श्री की स्थापना (सुबह ११:३७ बजे) परम पूज्य श्री महेशगिरीजी बापू पीठाधीश, श्री गुरु दत्तात्रय संस्थान, गिरनार जुनागढ़ गुजरात के शुभ हाथों से; वेदमूर्ति श्री मिलिंद राहुरकर और वेदमूर्ति श्री नटराज शास्त्री के पुरोहितत्व , ३१ अगस्त २०२२, बुधवार - श्री के विद्युत रोशनाई का भव्य उद्घाटन माननीय मंत्री चंद्रकांत दादा पाटिल के हाथों (शाम ७ बजे), १ सितंबर २०२२, गुरुवार -३१००० माताओं और बहनों का अथर्वशीर्ष पठान एवं महामंगल आरती; मुख्य अतिथि: वरिष्ठ गायिका अनुराधाताई पौडवाल और पुलिस उपायुक्त जोन १. डॉ. प्रियंका नारनवारे (सुबह ६ बजे), १ सितंबर २०२२, गुरुवार – हरिजागर (रात १० से प्रातः २ बजे तक), ६ सितंबर २०२२, मंगलवार - सत्यविनायक पूजा (शाम ५ से ६ बजे तक), ७ सितंबर २०२२, बुधवार – मंत्रजागर (दोपहर ३ बजे से शाम ५ बजे तक), ८ सितंबर २०२२, गुरुवार - महिलाओं का हल्दी – कुमकुम (शाम ६ से ८ बजे तक), ९ सितंबर २०२२, शुक्रवार - मंगलमूर्ति का भव्य विसर्जन (अनंत चतुर्दशी), २६ सितंबर २०२२, सोमवार - घटस्थापना, २९ सितंबर २०२२, गुरुवार – विनायकी चतुर्थी

दगडूशेठ गणपती लाइव दर्शनदेखीये

मंदिर में कलरिंग का काम शुरू होने के कारण से, दिनांक १३ से २४ अगस्त २०२१
तक लाइव्ह दर्शन बंद रहेगा।.

English Website

Marathi Website

English Website

Social-Initiatives

इन डिजीटल माध्यमों के साथ हम से जुड़े|

E-Seva

Social Initiatives

E-Seva

Social Initiatives

E-Seva

Visit E-Store

ganesh geet gayan spardha

सामाजिक कार्यों के लिए दान करने की जानकारीधनराशी-देन

सुस्वागतम्

श्री दगडूशेठ हलवाई गणपती यह भक्तों के लाडले भगवान हैं । श्रीमंत दगडूशेठ हलवाई गणपती को पुणे शहर के गौरव का उच्चतम स्थान माना जाता है । हर साल भारत भर के और देश विदेशों के अनगिनत भक्त इस भगवान के दर्शन पाने के लिये आते हैं ।

श्री दगडूशेठ हलवाई गणपती यह मंदिर भक्तों के आदर और भक्ती का स्थान तो है ही, पर इतना ही नहीं, बल्कि समाज-सेवा और संस्कृति-संवर्धन के लिए प्रयत्नशील रही हुई एक महत्त्वपूर्ण संस्था के रूप में भी लोग इसे जानते हैं । ’श्री दगडूशेठ हलवाई गणपती मंदिर ट्रस्ट’ इस नाम से यह संस्था कार्यरत है । इस मंदिर के पीछे एक बहुत बडी और वैभवशाली परंपरा रही है ।

कई साल पहले अपना इकलौता बेटा प्लेग में खोने के बाद श्रीमंत दगडूशेठ और उनकी पत्नी लक्ष्मीबाई, इन दोनों ने इस गणेश मूर्ती की स्थापना की थी । उसके बाद अब हर साल ना केवल श्री दगडूशेठ का परिवार बल्कि आसपास के सभी लोग भाव-भक्ती से और बडे जोश के साथ गणेशोत्सव मनाते रहे ।

और पढ़ें

आजकी प्रतिमा

मंदिरकी समय-सारिणी


  • मंदिर का समय (रोज़) – सु. ५ बजे से रा. १०:३० बजे तक (सोमवार, बुधवार, गुरुवार, शुक्रवार, शनिवार और रविवार)
  • मंदिर का समय (मंगलवार) – सु. ५ बजे से रा. ११ बजे तक
  • सुप्रभातम आरती – सु. ०७:३० से ०७:४५
  • नैवेद्य आरती – दो. १.३० ते १.४५
  • मध्यान्ह आरती – दो. ३.०० ते ३.१५
  • महामंगल आरती – रा. ८.०० ते ९.००
  • शेजारती – रा. १०.३० ते १०.४५

पूरा समय-सारिणी देखे

आने वाले विशेषदिन


  • ३१ अगस्त २०२२, बुधवार – गणेश चतुर्थी
  • ३१ अगस्त २०२२, बुधवार – श्री का आगमन (प्रातः ८:३० बजे)
  • ३१ अगस्त २०२२, बुधवार – श्री की स्थापना (सुबह ११:३७ बजे) परम पूज्य श्री महेशगिरीजी बापू पीठाधीश, श्री गुरु दत्तात्रय संस्थान, गिरनार जुनागढ़ गुजरात के शुभ हाथों से; वेदमूर्ति श्री मिलिंद राहुरकर और वेदमूर्ति श्री नटराज शास्त्री के पुरोहितत्व
  • ३१ अगस्त २०२२, बुधवार – श्री के विद्युत रोशनाई का भव्य उद्घाटन माननीय मंत्री चंद्रकांत दादा पाटिल के हाथों (शाम ७ बजे)
  • १ सितंबर २०२२, गुरुवार – ३१००० माताओं और बहनों का अथर्वशीर्ष पठान एवं महामंगल आरती; मुख्य अतिथि: वरिष्ठ गायिका अनुराधाताई पौडवाल और पुलिस उपायुक्त जोन १. डॉ. प्रियंका नारनवारे (सुबह ६ बजे)
  • १ सितंबर २०२२, गुरुवार – हरिजागर (रात १० से प्रातः २ बजे तक)
  • ६ सितंबर २०२२, मंगलवार – सत्यविनायक पूजा (शाम ५ से ६ बजे तक)
  • ७ सितंबर २०२२, बुधवार – मंत्रजागर (दोपहर ३ बजे से शाम ५ बजे तक)
  • ८ सितंबर २०२२, गुरुवार – महिलाओं का हल्दी – कुमकुम (शाम ६ से ८ बजे तक)
  • ९ सितंबर २०२२, शुक्रवार – मंगलमूर्ति का भव्य विसर्जन (अनंत चतुर्दशी)
  • २६ सितंबर २०२२, सोमवार – घटस्थापना
  • २९ सितंबर २०२२, गुरुवार – विनायकी चतुर्थी